मीडिया गणतंत्र के देवी-देवता

किसी चुनावी जुमले की तरह लोगों को ये रट गया है कि लोकतंत्र में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता ज़रूरी होती है और उसका एकमात्र रखवाला कोई होता ह...
Read More

गाँधी को संग्रहालय में बंद करने का षड़्यंत्र

महात्मा गाँधी की स्मृतियों को सँजोना एक राष्ट्रीय दायित्व है और अगर केंद्र या किसी राज्य की सरकार इस दिशा में कुछ करती है तो उसका स्वागत...
Read More

बिना डिस्क्लेमर की पद्मावत

आपने ये ठीक नहीं किया जायसी साहब। हिंदुस्तान में पहले से ही कम झगड़े थे जो आपने पद्मावत लिखकर एक और मुद्दा दे दिया झगड़ने के लिए। अतीत क...
Read More

ग़ुलाम मीडिया को गुरमेहर की चुनौती

गुरमेहर कौर के प्रतिरोध को आवाज़ देने के लिए कोई न्यूज़पेपर, रेडियो या न्यूज़ चैनल तैयार नहीं होता। ख़ास तौर पर तब जबकि वह उस सत्ता प्रत...
Read More

ये हार शिवसेना की नहीं, मराठियों की है-उद्धव ठाकरे

मुंबई महानगरपालिका के चुनाव में बीजेपी की अभूतपूर्व सफलता से शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे बिफरे हुए हैं। हालाँकि उनकी पार्टी को सबसे ज़्यादा...
Read More

मुझे तो लगता है कि यूपी हाथ से निकल गया-अमित शाह

संपादक जी को पता था कि अमित शाह मुझे घास नहीं डालेंगे, क्योंकि उन्हें फेक एनकाउंटर शब्द से ही चिढ़ है। पिछली बार भी वे बिदक गए थे। फेक ए...
Read More

बोले तो, अम्मा का आत्मा मेरे अंदर बैठा-शशिकला

ओ. पन्नीरसेल्वम की चुनौती ने शशिकला के लिए मुश्किलें ज़रूर खड़ी कर दी थीं, मगर उन्हें लगता है कि जयललिता के साथ रहने से मिले राजनीतिक अन...
Read More

जाहिलों के थप्पड़ों से बेहतर है समझौता-भंसाली

पद्मावती के निर्माता-निर्देशक संजय लीला भंसाली की समझ में नहीं आ रहा कि वे हँसें या रोएं। जहां उन्हें थप्पड़ खाने का ग़म है वहीं वे फिल्...
Read More